एक सुलझा हुआ रहस्य

ऊबाऊज़ादा, पकाऊज़ादा... आधे से ज्यादा इश्कज़ादा

शक्लो-सूरत अच्छी मगर जीन कमजोर

अच्छी थी सगाई लेकिन ठंडी रही विदाई

शराफत का फल मीठा होता है

ए लेजी ‘कुक्कड़ फैमिली’ स्किट

ये तेवर कुछ नये नहीं