विरोध करने वालो! चलो ख़ुशी मनाते हैं

भारत की ग़रीबी को बेचने के नाम पर बहुत हो लिया विरोध, अब ख़ुशी मना ली जाए। ख़ुशी इस बात की कि ऑस्कर में भारत का झंडा इस शान से फहराया कि आज हर ज़ुबान पर `जय हो´ का नारा है, और जो नहीं जानते कि ´जय हो´ क्या है, वे भी इस ख़बर के सुरूर में झूम रहे हैं कि ऑस्कर के इतिहास में एक रात भारत के नाम रही, या कह लें कि अगला एक साल भारत के नाम रहेगा। तो फिर उन लोगों को क्या तकलीफ है जो पहले ही दिन से इस फ़िल्म का यह कहकर विरोध करते रहे हैं कि भारत की ग़रीबी को दिखाकर पैसा बटोरा जा रहा है।

विरोध करने वालों से तीन सवाल हैं- पहला यह कि, क्या भारत में बनने वाली फ़िल्मों में कभी भारत की इस तस्वीर को नहीं दिखाया गया? याद नहीं पड़ता कि मीरा नायर की `सलाम बॉम्बे´ पर कभी विवाद हुआ हो। दूसरा यह कि, क्या फ़िल्मों या किसी भी दूसरे ज़रिये से बाहर के मुल्कों तक भारत की बेहतर तस्वीर नहीं जाती। मसलन, बंगलुरु या हैदराबाद की वो तस्वीर जो सिलिकॉन वैली को मात देती दिखती है और मिस यूनिवर्स तथा मिस वर्ल्ड जैसे मुक़ाबले जिनमें भारत अलग ही रंग में सामने आता है। और तीसरा यह कि, क्या इस फ़िल्म में जो दिखाया गया है वह सच नहीं है? अगर सच है तो उसे दिखाने से बचना कैसा? वैसे भी, जब तक सच अपने असली और कड़वे रूप में सामने न आए तो उसका असर भी कहां होता है। किसी कड़वी हक़ीकत से निजात पानी है तो उससे रू--रू होना होगा।

वैसे, यह जश्न `स्लमडॉग मिलियनेयर´ नाम की फ़िल्म से ज़्यादा उन लोगों की जीत का है जो हमारे बीच से निकले हैं, जिनकी जीत हमारी जीत है। यह फ़िल्म जद्दोजहद करते हुए ज़मीन से आसमां तक उड़ने की कहानी है। ज़िंदगी में कभी हार न मानने के जज़्बे को बयां करती इस फ़िल्म से जुड़े लोगों में भी कई ऐसे हैं जिन्होंने अपनी ज़िंदगी ज़मीन से शुरू की और आसमां की ऊंचाइयों को छुआ। रहमान उनमें से एक हैं। रहमान ने अवॉर्ड लिया तो मां की बात की। वो मां हम सबकी ज़िंदगी में है। बेशक बहुत-से संगीतकार रहमान के आलोचक हैं, लेकिन रहमान देश के क़ाबिल संगीतकारों में से एक हैं, यह हम सब बहुत पहले से जानते हैं। लेकिन जश्न उस क़ाबिलियत को बड़े मंच पर पहचान मिलने का है। 

ऐसा नहीं है कि इसी फ़िल्म में रहमान ने अपना बेहतरीन संगीत दिया है। बहुत-सी ऐसी फ़िल्में हैं जिनमें रहमान का संगीत इससे कहीं ऊंचे दर्जे का है। लेकिन एक साथ दो ऑस्कर जीतकर रहमान ने हमें एक अलग तरह से ख़ुश होने का मौका दिया है। रहमान के साथ-साथ रसूल पूकुट्टी की उपलब्धि क्या गर्व का बायस नहीं है? उन्होंने भारत की पहचान को ओम् के साथ जोड़कर बताया। भारत की धर्मनिरपेक्ष छवि को एक विशाल मंच पर एक छोटी-सी बात ने इतने पुख़्ता तरीक़े से रख दिया, तो यह जश्न मानने की ही बात है। यह भारत का दिन है, हमारा आपका हरेक भारतीय का दिन है। तो फिर क्यों न विरोध की बात भूलकर इस जश्न में शामिल हुआ जाए??

Share this:

CONVERSATION

2 comments:

Udan Tashtari said...

यह भारत का दिन है, हमारा आपका हरेक भारतीय का दिन है।

--बिल्कुल सही कहा..जय हो!!

संगीता पुरी said...

बिल्‍कुल सही .... आज भारत का दिन है....खुश होने का समय।